Wednesday, 22 January 2020

हिस्से

मन सबसे बड़ा विद्रोही है। ये अक़्सर वही करना चाहता है जो दुनिया को लगता है कि नही करना चाहिए। पर ये दुनिया तो हमसे बनती है, और हम कौन हैं? हम मन के मालिक हैं। ये मन किसका है? हमारा।

बड़ी अजीब विडंबना है, मन के मालिक होते हुए भी हम अपने ही मन को मारते हैं, उस दुनिया के लिए जो हमने ही बनाई है। हम क़ातिल हैं, मैं क़ातिल हूँ।

पर मैं कौन हूँ? मैं तो ख़ुद का मालिक भी नही हूँ। मैं चार हिस्सों में बँटा हुआ हूँ। दिल, दिमाग़, मन और शरीर। इन चारों में लगभग सभी बातों में मतभेद रहता है। इन चारों के कारण मैं कभी पूरा मैं नही हो पाता।

वहाँ दूर उस दूसरे शहर में कोई रहता है। कोई कौन? कोई वही जिसे मैं अपनी ज़िंदगी कहता था। हाँ हाँ मैं यानी मेरे चारों हिस्से मिलकर उसे ज़िंदगी कहते थे। वो कुछ ऐसा था जिसके लिए चारों एकजुट हो गए थे।

पर क्या वो वाक़ई ज़िंदगी थी? अगर थी तो उसके दूर जाने के बाद भी मैं ज़िंदा कैसे हूँ? यानी वो ज़िंदगी नही थी, वो ज़िंदगी का एक हिस्सा थी। इसका मतलब हमारी ज़िंदगी भी हिस्सों में बँटी हुई है।

ख़ैर, अब ज़िंदगी का ये हिस्सा जहाँ मेरे चार हिस्सों में मतभेद है। यहाँ दिल असमंजस में है, दिमाग़ रोकता है, मन जाना चाहता है और शरीर इन तीनों के बीच होने वाले फैसले का इंतज़ार कर रहा है।

मेरे और ज़िंदगी के इतने हिस्सों के बीच मैं कहाँ हूँ? मैं तो हूँ ही नही और तब तक नही हूँ जब तक ये चारों एक नही हो जाते। फ़िर जो भी ये हो रहा है ये कौन कर रहा है? ये इन चारों में से कोई कर रहा है। इन चारों में से जिसका पलड़ा भारी होता है सब उसके मुताबिक़ हो जाता है।

ज़िंदगी के कुछ हिस्से अभी बाकी है, ज़िंदगी अधूरी है, मैं अधूरा हूँ, सब अधूरा है।

सबको इंतज़ार है किसी दिन पूरा होने का........

अमित 'मौन'

Sunday, 12 January 2020

हिन्द नाम के सूरज को इस तरह नही ढलने देंगे

हिंद नाम के सूरज को, इस तरह नही ढलने देंगे
हम हृदय प्रेम से भर देंगे, अब द्वेष नही पलने देंगे

ये चिंगारी जो भड़की है, ना दिल में घर करने पाए
सींचा है खून से धरती को, बस्ती को ना जलने देंगे 

सूनी गोदें ना होंगी अब, सिंदूर ना पोछा जाएगा
हम जाति-धर्म की बातों पर, बेटों को ना लड़ने देंगे

हो ख़ुशियों से खलिहान भरे, हर दिल मे भाई-चारा हो 
अब नफ़रत की बंदूकों में, बारूद नही भरने देंगे

जब दीवाली में दीप जले, हर हिंदुस्तानी गले मिले
भारत माता की आँखों से, अब आँसू ना बहने देंगे

हम हृदय प्रेम से भर देंगे, अब द्वेष नही पलने देंगे

आइए सभी भारतीय आज ये संकल्प लेते हैं......

सब लौट गए

तुम्हारी देह एक दीवार और काँधे खूँटी थे पहली बार आलिंगनबद्ध होते ही  मैं वहीं टंगा रह गया तुमने जुल्फों तले मुझे छुपाया तो लगा  उम्र भर की छ...