Wednesday, 27 December 2017

Kanha sun lo meri pukaar

कान्हा सुन लो मेरी पुकार
फिर से आ जाओ एक बार

त्रेता द्वापर में आये थे जैसे
कलियुग में भी आओ एक बार

गीता उपदेश दिया था जैसे
फिर से ज्ञान दे जाओ एक बार

भटक गए है हम इस दुनिया में
फिर से राह दिखाओ एक बार

अँधेरा सा है फैला हर ओर
यहाँ प्रकाश फैलाओ एक बार

कान्हा सुन लो मेरी पुकार
फिर से आ जाओ एक बार

No comments:

Post a Comment

मंदबुद्धि

हर रोज परिवर्तित होती इस दुनिया से सामजंस्य बिठाने में असफल रहते हुए मैं हमेशा मंदबुद्धि की श्रेणी में रहा। जब दुनिया के सभी ज्ञानी  ख़ुद को ...