Thursday, 25 January 2018

Yahin se niklega- यहीं से निकलेगा

माना की दिल है मोम सा पर यूँ ही नही पिघलेगा
तपिश बोसा-ए-यार की मिले तो पल में पिघलेगा

इल्म है की पत्थर सा नज़र आता है जिस्म मेरा
एक चोट तो मार के देख खून यहीं से निकलेगा

रात काली है अमावस की तो गम क्या करना
थोड़ा इंतज़ार तो करो चाँद यहीं से निकलेगा

किस्से आशिक़ी के हमारे यूँ तो मशहूर कभी ना हुए
पर जिक्र हमारा हुआ तो अफ़साना यहीं से निकलेगा

कुछ बात ऐसी की कूचा-ए-यार में आना ना हुआ
पर बाद मरने के जनाज़ा 'मौन' का यहीं से निकलेगा

No comments:

Post a Comment

मंदबुद्धि

हर रोज परिवर्तित होती इस दुनिया से सामजंस्य बिठाने में असफल रहते हुए मैं हमेशा मंदबुद्धि की श्रेणी में रहा। जब दुनिया के सभी ज्ञानी  ख़ुद को ...