Friday, 5 July 2019

ज़िंदगी कट जाएगी तुम्हारे बाद भी....

ज़िंदगी कट तो रही थी तुमसे पहले भी
ज़िंदगी  कट  जाएगी  तुम्हारे  बाद  भी

तुम आए तो यूँ लगा मानो खुशियाँ वो नाव बनकर आयी हों जो बस अभी मेरे हाथों में पतवार थमाकर मुझसे कहने वाली हों कि सुनो अब इस गम की दलदल से बाहर निकलो और चलो साहिल पर जहाँ एक नई दुनिया तुम्हारा इंतज़ार कर रही है...
पर तुम यादों की गठरी का बोझ और बढ़ाकर चले गए..अब इस गठरी को ताउम्र उन कंधों पर ढोना पड़ेगा जो पहले ही झुके हुए हैं....

तुम आये तो कुछ यूँ हुआ कि जैसे मुरझाए फूल को कोई ऐसी खाद मिल गयी हो जिससे वो कुछ और दिन इस उपवन में मुस्कुराता हुआ इस बगिया को महका सके...
पर फूल की क़िस्मत में आख़िर मुरझाना ही लिखा है...

तुम आये तो कुछ यूँ हुआ कि सूखे तालाब में फ़िर से पानी भर गया और जल बिन तड़पती मछलियों को कुछ और दिन की ज़िंदगी मिल गयी....
पर मछलियों की क़िस्मत में ज्यादा जीना कहाँ लिखा होता है...

तुम आए तो यूँ लगा कि अमावस की इस काली रात में सैकड़ों जुगनू मिलकर इस अँधेरे को बढ़ने से रोक लेंगे...
पर उन जुगनुओं में वो रोशनी नही जो रात से मुकाबला कर सकें....

पर ख़ुशी है मुझे की तुम आए क्योंकि तुम्हारे आने के बाद और जाने से पहले के बीच का जो वक़्त है ना उसमें मैंने एक और ज़िंदगी जी है...

और फ़िर मेरा क्या है...मेरे लिए तो बस इतना है कि...

एक  ज़िंदगी  में  कई ज़िंदगी  जी रहा हूँ मैं
दर दर की ठोकरें खाकर आँसू पी रहा हूँ मैं

अमित 'मौन'

7 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (07 -07-2019) को "जिन खोजा तिन पाईंयाँ " (चर्चा अंक- 3389) पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है

    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद आपका

      Delete
  3. जी बहुत ही प्यारी रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका

      Delete
  4. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete

सब लौट गए

तुम्हारी देह एक दीवार और काँधे खूँटी थे पहली बार आलिंगनबद्ध होते ही  मैं वहीं टंगा रह गया तुमने जुल्फों तले मुझे छुपाया तो लगा  उम्र भर की छ...