Wednesday, 17 February 2021

मिलना

हम मिले सालों बाद
और शिष्टाचार में पूछ ही लिया
कैसे हो?
जवाब में ठीक हूँ कहने की हिम्मत
चाहकर भी नही जुटाई जा सकी

क्योंकि ठीक वैसा अब कुछ भी नही

हम जानते थे कि
तितलियों के पंख तोड़ लिए गए हैं
उपवन के पक्षी अब उड़ना भूल चुके हैं
झरनों में पानी की जगह अब काई ने ले ली है
और रातों में अब सिर्फ चमगादड़ बचे हैं

हम महसूस कर सकते थे कि
नसों में लहू अब आहिस्ता दौड़ा करता है
हृदय की गति अब मंद पड़ गयी है
घड़ी की सुइयों ने घूमना छोड़ दिया है
और लौटने के सभी रास्तों पर
नया शहर बसाया जा चुका है

फ़िर भी हम सलीके से मुस्कुराए
और अपने असहाय होंठों को
बचा लिया एक और झूठ के पाप से ।

अमित 'मौन'


P.C.: GOOGLE


7 comments:

  1. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 18.02.2021 को चर्चा मंच पर दिया जाएगा| आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ाएगी
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. सुन्दर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब ...
    जीवन में बदलाव आता है और कई बार झूठ से बचने के तरीके ढूँढना भी मुश्किल हो जाता है ... गहरी अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर और सारगर्भित रचना।

    ReplyDelete
  6. एक और झूठ के पाप से बच गए । बढ़िया प्रस्तुति ।

    ReplyDelete

रश्क़

  रोज इसी वक़्त छत पर आओगी तो पड़ोसी कानाफ़ूसी करेंगे पकड़ी तुम जाओगी और शामत मेरी आएगी बिन बात मुस्कुराती हो बेवज़ह चौंक जाती हो जो किसी को भी श...