Wednesday, 2 June 2021

पक्ष

गीता ग्रंथ सी होती है ये अंतरात्मा
हमेशा अच्छे बुरे का उपदेश देती हुई
पर मन अक़्सर दुर्योधन सा आतुर 
जो सोच लिया वो करके ही मानता है

हर चोर जानता है चोरी के पाप को
फ़िर भी वो करता रहता है चोरियाँ
क्योंकि पाप और प्रायश्चित के बीच
उसे फल चुनना आसान लगता है

जन्म से हम जानवर होंगे या मानव
ये कभी भी हमारे हाथ में नही होता
जन्म पाने के लिए कर्म नही कर सकते
पर जन्म के बाद अपना कर्म चुन सकते हैं

ये जानते हुए भी कि जीव हत्या पाप है
साँप को विष और शेर को दाँत क्यों ?
क्योंकि अस्तित्व की जद्दोजहद को
पाप पुण्य की तराजू में नही रखा जाता

सुख दुःख बादल हैं, आते जाते रहेंगे
पर संतुष्टि की छाँव हम स्वयं ढूँढ़ते हैं
हमें परिस्थितियाँ चुनने की आज़ादी नही
पर हम निर्णय के लिए सदैव स्वतंत्र हैं

मानवता स्वयं में एक ऐसा धर्म है
जिसका ईश्वर और प्रजा हम ही हैं
हम ही चोट देंगे हम ही दर्द सहेंगे
हम ही दुनिया बनाएंगे हम ही रहेंगे

जीवन एक खेल है जो हम खेलते हैं
यहाँ खिलाड़ी भी हम और दर्शक भी
अच्छाई और बुराई दो अलग दल हैं
हमें पक्ष चुनना और खेलना भर है

- अमित 'मौन'
PC: Google

10 comments:

  1. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद आपका

      Delete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना शुक्रवार ४ जून २०२१ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    सादर
    धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद आपका

      Delete
  4. बुरा करते वक्त पता होता है कि ये काम बुरा है।
    अर्थपूर्ण रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद आपका

      Delete
  5. सटीक रूपकों के साथ पक्ष को रखा है ।।गहन अर्थ वाली रचना ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपका

      Delete

दुनिया बहुत बड़ी है

  ये दुनिया अचानक इतनी बड़ी हो गयी है कि तुम्हारी ख़बर तक नही मिलती हर अख़बार, सभी चिट्ठी, सारे संदेश कहीं भी तुम्हारी ख़ुशबू तक नही है अब दिन म...