Sunday, 18 February 2018

इश्क़ छुपता नहीं- ishq chhupta nahi

कब तलक यूँ राज-ए-उल्फ़त ना बतायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही कदम लड़खड़ाते है यहाँ

कब तलक यूँ राज-ए-गुलशन छुपायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही अब गुल खिलते हैं यहाँ

कब तलक यूँ आईने में देख मुस्कुरायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही होंठ सिल जाते हैं यहाँ

कब तलक यूँ धड़कनों को रोक पायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही सांसें तेज़ हो जाती हैं यहाँ

कब तलक यूँ आँखें बंद कर बहाने बनायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही अब नींदें उड़ जाती हैं यहाँ

No comments:

Post a Comment

सब लौट गए

तुम्हारी देह एक दीवार और काँधे खूँटी थे पहली बार आलिंगनबद्ध होते ही  मैं वहीं टंगा रह गया तुमने जुल्फों तले मुझे छुपाया तो लगा  उम्र भर की छ...