Monday, 1 January 2018

Har wo baat likhte hain

कुछ अपनी दास्तान कुछ अनकहे जज्बात लिखते हैं
हम अपनी शायरी में हर वो बात लिखते हैं

कुछ हसीन लम्हे कुछ अधूरी मुलाकात लिखते है
हम अपनी शायरी में हर वो बात लिखते हैं

कुछ दिन सुकून के कुछ दर्द भरी रात लिखते है
हम अपनी शायरी में हर वो बात लिखते हैं

कुछ बदमाशियां उनकी कुछ अपनी खुराफात लिखते हैं
हम अपनी शायरी में हर वो बात लिखते हैं

कुछ दूरियां दरमियां पर हर पल उनके साथ लिखते हैं
हम अपनी शायरी में हर वो बात लिखते हैं

No comments:

Post a Comment

सब लौट गए

तुम्हारी देह एक दीवार और काँधे खूँटी थे पहली बार आलिंगनबद्ध होते ही  मैं वहीं टंगा रह गया तुमने जुल्फों तले मुझे छुपाया तो लगा  उम्र भर की छ...