Sunday, 18 February 2018

इश्क़ छुपता नहीं- ishq chhupta nahi

कब तलक यूँ राज-ए-उल्फ़त ना बतायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही कदम लड़खड़ाते है यहाँ

कब तलक यूँ राज-ए-गुलशन छुपायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही अब गुल खिलते हैं यहाँ

कब तलक यूँ आईने में देख मुस्कुरायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही होंठ सिल जाते हैं यहाँ

कब तलक यूँ धड़कनों को रोक पायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही सांसें तेज़ हो जाती हैं यहाँ

कब तलक यूँ आँखें बंद कर बहाने बनायेंगे हम
दीदार-ए-यार से ही अब नींदें उड़ जाती हैं यहाँ

No comments:

Post a Comment

मंदबुद्धि

हर रोज परिवर्तित होती इस दुनिया से सामजंस्य बिठाने में असफल रहते हुए मैं हमेशा मंदबुद्धि की श्रेणी में रहा। जब दुनिया के सभी ज्ञानी  ख़ुद को ...