Saturday, 9 January 2021

बंद आँखें

कुछ तस्वीरें हम अपने पास नही रख सकते क्योंकि उन तस्वीरों को देखने का हक़ हम खो चुके होते हैं। कुछ सपनों की तस्वीरें नही बनाई जा सकती क्योंकि उनका कोई आकार नही होता। ऐसे में सिर्फ़ एक ही ज़रिया बचता है उन सबको देखने का और वो हैं बंद आँखें।

जिन्हें हम खुली आँखों से सबके सामने नही देख पाते उन सभी चीजों को हम बंद आंखों से कभी भी कहीं भी देख सकते हैं। आँखें बंद करके हम अपनी एक अलग दुनिया में पहुँच सकते हैं। हम अपने दुःख, दर्द, आँसू, सपने और एहसास सब कुछ इस दुनिया से छुपाकर उन बंद आँखों के पीछे रख सकते हैं, जिनसे हम और सिर्फ़ हम ही मिल सकते हैं।

बंद आँखें दुनिया की सबसे सुरक्षित जगह है।

अमित 'मौन'


तस्वीर साभार - गूगल

6 comments:

स्थिरता

कितनी ही दीवारें हैं जिन्हें घर होने का इंतज़ार है और मुसाफ़िर हैं कि बस भटकते हुए दम तोड़ रहे हैं जाने कितना ही वक़्...