Tuesday, 26 February 2019

जीने की वज़ह दे दो

टूटे  इस  रिश्ते  में, आ  कर के  गिरह  दे दो
शिकवों को संग लाओ, लंबी सी जिरह दे दो

अश्कों  से  भरी आँखें, ग़मगीन  सी  हैं  रातें
शामों में हो शामिल, मुझे अपनी सुबह दे दो

तन्हाई   के  आलम   में,  मीलों   मायूसी  है
जीवन में आ जाओ, इस ग़म को विरह दे दो

अपने इस दिल मे तुम, थोड़ी सी जगह दे दो
साँसों  में  समा  जाओ, जीने की वजह दे दो

अमित 'मौन'

5 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "मुखरित मौन में" शनिवार 02 मार्च 2019 को साझा की गई है......... https://mannkepaankhi.blogspot.com/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  2. तन्हाई के आलम में, मीलों मायूसी है
    जीवन में आ जाओ, इस ग़म को विरह दे दो
    बेहतरीन प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. agar aap likhne ke shokin hai to hamari website hindi short stories par likh sakte hain

    Hindi Short Stories

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुन्दर.... लाजवाब...

    ReplyDelete
  5. After looking over a number of the articles on your web site,
    I really appreciate your way of writing a blog. I saved it to my bookmark
    site list and will be checking back in the near future.
    Also see our wonderful

    LED TV REPAIRING COURSE

    TV REPAIRING COURSE

    LED TV REPAIRING INSTITUTE

    ReplyDelete

मंदबुद्धि

हर रोज परिवर्तित होती इस दुनिया से सामजंस्य बिठाने में असफल रहते हुए मैं हमेशा मंदबुद्धि की श्रेणी में रहा। जब दुनिया के सभी ज्ञानी  ख़ुद को ...