Monday, 27 May 2019

सोशल मीडिया

सोशल मीडिया मोहल्ले के उस पार्क की तरह है जहाँ हम सुबह या शाम को अपना खाली वक़्त बिताने जाते हैं या यूँ कहें दिन भर की थकान और मानसिक तनाव के बाद कुछ पल का सुकून ढूंढ़ने जाते हैं...पार्क में खेलते बच्चे और उनके अनोखे खेल कुछ पल के लिए ही सही हमारे चेहरे पर मुस्कान जरूर ले आते हैं।

उसी पार्क की बेंच पर बैठे हुए कुछ हमारे जैसे लोग भी मिलते हैं जो शायद हमारी ही तरह ज़िंदगी की उलझनों से दूर कुछ पल का आराम ढूंढ़ने आते हैं..उनकी और हमारी मनोदशा कमोबेश एक ही होती है पर वो और हम दोनों एक दूसरे को एक प्यारी सी मुस्कान भरी नजरों से देखते हैं...बात करने का कोई बहाना ढूँढ़ते है मसलन राजनीति या कोई सामाजिक विषय...और कई बार तो हम उसी पार्क की दुर्दशा के बारे में चर्चा करने लगते हैं जिसकी दशा को शायद हम जैसे लोगों ने ही बिगाड़ दिया हो..हम नगर निगम को उसकी सफाई या जीर्णोद्धार के लिए दोष देने लगते हैं जिसमें सारा कूड़ा हमने ही फैलाया हैं या जिसकी बेंच और झूलों को हमारे ही बच्चों ने तोड़ा है।

ख़ैर कुछ पल की चर्चा और मनोरंजन के बाद हम सभी अपनी अपनी व्यस्तताओं में लीन होने के लिए दोबारा प्रस्थान करते हैं...पर अगले दिन वापस जरूर आते हैं फिर से कुछ पल का सुकून ढूंढ़ने के लिए.....

बेंच वाले साथी हमारे ऑनलाइन फ़्रेंडलिस्ट के लोग हैं, फनी वीडियो और मीम उस पार्क में खेलते बच्चे हैं, हमारी पोस्ट और कमेंट हमारी चर्चा है और उन्हीं सब के बीच निकलती अभद्रता, अश्लीलता, विकार और विवाद हमारे द्वारा फैलाई गई गंदगी है।

अमित 'मौन'

8 comments:

  1. ब्लॉग बुलेटिन की दिनांक 29/05/2019 की बुलेटिन, " माउंट एवरेस्ट पर मानव विजय की ६६ वीं वर्षगांठ - ब्लॉग बुलेटिन “ , में आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  2. सोशल मीडिया एक चौपाल ही है.
    अच्छा लिखा!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद आपका

      Delete
  3. सही कहा असल दुनिया से ज्यादा अलग नहीं हैं ये दुनिया |

    ReplyDelete
  4. बहुत सही लिखा आपने 👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपका

      Delete

आत्ममंथन

किसी इंसान की ज़िंदगी का वह दौर सबसे भयावह होता है जहाँ पूरी दुनिया की भीड़ मिलकर भी उसकी तन्हाई दूर नही कर पाती। उसके चारों ओर हँसते हुए चेहर...