Wednesday, 26 June 2019

सब हैं उसके रूप के क़ायल

छोटी  बिंदी  बड़ा  सा  गजरा
छम छम करती उसकी पायल
सरके  चूनर  कांधे  से  जब
तिल गर्दन का करे है घायल

चले  तो  चूड़ी  शोर  मचाए
लबों की लाली करे है पागल
नज़र  लगे  ना  उसे जहां की
मैं तोहफ़े में दे आया काजल

अमित 'मौन'

2 comments:

  1. बहुत सुंदर पंक्तियां 👌

    ReplyDelete

तुम्हें लिखूँगा बस कविता में

तेरी याद में डूबा हूँ पर ग़म के प्याले नही भरूँगा सुन लूँगा इस जग के ताने नाम तेरा मैं कभी ना लूँगा बढ़ जाऊंगा तन्हा ही अब राह तुम्हारी न...