Thursday, 27 June 2019

उम्मीदें

उम्मीदें:

हौसलों की कुछ स्वरचित कहानियाँ पढ़ने के बाद कभी कभी हम इतने ज्यादा आशावादी हो जाते हैं कि हमें लगने लगता है कि हम भरी बरसात में उफ़नती नदी के बहाव को मिट्टी डाल कर रोक सकते हैं और हम ऐसा करने भी लगते हैं!

मगर बार बार मिट्टी डालने के बाद जब वो हर बार तेज बहाव के दबाव में आकर बह जाती है तब जाकर हमें एहसास होता हैं कि हमनें मिट्टी से उम्मीदें कुछ ज्यादा ही लगा ली थी!

प्रेम कथाओं को पढ़कर हम अक़्सर यही गलती दोहराते हैं और फिर उम्मीदों के साथ साथ हम ख़ुद भी टूट जाते हैं!

अमित 'मौन'

6 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (30 -06-2019) को "पीड़ा का अर्थशास्त्र" (चर्चा अंक- 3382) पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    ....
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  2. बहुत सटीक और सार्थक।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपका

      Delete

दूसरा प्यार

जब आप किसी का दूसरा प्यार होते हैं तब आपसे उम्मीदें कम होती हैं और आपका काम ज्यादा। आपके हिस्से नही आता वो बेइंतहा प्यार जिसकी आप अपने प्रे...