Wednesday, 10 July 2019

चुनाव

चुनाव:
मुझे बुद्ध के मार्ग पर चलना था तो मैंने कृष्ण का उपाय चुना....

जैसे कृष्ण ने संधि और युद्ध में से युद्ध को चुना ताकि शांति लाई जा सके,  वैसे ही मैंने तुम्हें ना पाने की व्यथा और तुम्हारे चले जाने के दुःख में से किसी एक को चुनने के क्रम में अपने भीतर चल रहे द्वंद पर विजय पाते हुए तुम्हे जाने देने की अनुमति को चुना..

ताकि उम्र भर इस भ्रम में जी सकूँ की शायद तुम मेरे लिए बनी ही नही थी और साथ में ये सुकून भी रहे कि तुमने अपना चुनाव स्वयं किया और शायद तुम खुश होगी.....

समर्पण की प्रक्रिया का पहला चरण पार करते हुए मैंने तुम्हारी ख़ुशी को अपनी प्रसन्नता का कारण मान लिया.....

अमित 'मौन'

4 comments:

  1. जी नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (13 -07-2019) को "बहते चिनाब " (चर्चा अंक- 3395) पर भी होगी।

    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    आप भी सादर आमंत्रित है

    ….
    अनीता सैनी

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर प्रस्तुति मन के द्वंद पर विजय सदा समानांतर राहें प्रस्सत करती है।
    अनुपम लेखन।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बेहद शुक्रिया आपका

      Delete

दूसरा प्यार

जब आप किसी का दूसरा प्यार होते हैं तब आपसे उम्मीदें कम होती हैं और आपका काम ज्यादा। आपके हिस्से नही आता वो बेइंतहा प्यार जिसकी आप अपने प्रे...