Monday, 15 July 2019

कविताएं

मैंने आँखों में झाँक कर इजाज़त लेनी चाही मगर हर बार उसने नजरें मिलने से पहले ही पलकें झुका ली...
आँखों की सहमती ना मिल पाने के कारण मेरे होंठों ने मौन रहना चुना...
इज़हार के बाद उसके इंकार या स्वीकार के असमंजस ने मुझे प्रेम पत्र लिखने से रोक दिया...
मैंने अपने मन के भावों को कविता का रूप दे दिया और रच डाली कई कविताएं....
मैंने कविताओं में वो सब लिखा जो मैं उससे कहना चाहता था.....
उसने वो कविताएं पढ़ीं और उसे कवि से प्रेम हो गया....

अब मैं उसे महसूस करके कविता लिखता हूँ और वो कविता पढ़ती हुई मुझे महसूस करती है....

अमित 'मौन'

No comments:

Post a Comment

शब्दों की माला

मैं  चाहूँ  तुझे  ही, ये  कैसे  बताऊँ जो पढ़ के ना समझे तो कैसे जताऊँ देखूँ तुझे तो मैं, ख़ुद ही को भूलूँ यूँ  चेहरे से नज़रें  मैं कैसे हटा...