Monday, 9 November 2020

कहो कवि अब क्या लिखोगे??

तुमने भूख लिखी

किसी भूखे ने नही पढ़ी
भूखे को रोटी चाहिए कविता नही
कहो रोटी दे सकते हो क्या?

तुमने बेरोजगारी लिखी
वो किसी काम की नही
आदमी को काम और पैसे चाहिए
काग़ज पर छपी कविता नही
कहो काम दे सकते हो क्या?

तुमने व्यंग्य लिखा
पर किसी को हँसी नही आई
सुधार हँसी ठिठोली से नही आते
मिल कर कदम बढ़ाने पड़ते हैं
कहो बदलाव ला सकते हो क्या?

तुमने दर्द लिखा
पर किसी के मन को नही छुआ
सबका दिल दर्द से भरा निकला
यहाँ सबका ज़ख्म हरा निकला
कहो इलाज कर सकते हो क्या?

अच्छा सुनो
लिख सकते हो तो समाधान लिखो
क्योंकि समस्याएं बहुत हैं

लिख सकते हो तो जवाब लिखो
क्योंकि सवाल बहुत हैं

कहो लिख पाओगे क्या??


अमित 'मौन'


P.C. : GOOGLE


21 comments:

  1. सादर नमस्कार ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (१०-११-२०२०) को "आज नया एक गीत लिखूं"(चर्चा अंक- 3881) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  3. आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज मंगलवार 10
    नवंबर 2020 को साझा की गई है.... "सांध्य दैनिक मखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  6. वाहः
    लिख सकते हो तो समाधान लिखो
    क्योंकि समस्याएं बहुत हैं

    लिख सकते हो तो जवाब लिखो
    क्योंकि सवाल बहुत हैं

    शानदार लेखन

    ReplyDelete
  7. पहली बार किसी ने कवि से सटीक बात कही है - लिख सकते हो तो समाधान लिखो। वाह! बहुत अच्छा लगा पढ़ कर। हम हमेशा बुद्धिजीवी कवियों से यह कहना चाहते हैं, आपने कितने सटीक शब्दों में कह दिया।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद आपका

      Delete
  8. यही कटु सत्य है। समस्याओं पर लिख देने से समस्याएँ खत्म नहीं होती हैं। काम करना पड़ता है।

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी सही कहा आपने... धन्यवाद

      Delete

परफ्यूम

'मैं तो यही चाहूँगी कि हम बीच बीच में मिलते रहें, बाकी तुम्हारी मर्जी' ये उसकी आख़िरी लाइन थी जो मेरे कानों ने सुनी थी। उसके बाद हम क...