Wednesday, 18 September 2019

दूसरा प्यार

जब आप किसी का दूसरा प्यार होते हैं तब आपसे उम्मीदें कम होती हैं और आपका काम ज्यादा।

आपके हिस्से नही आता वो बेइंतहा प्यार जिसकी आप अपने प्रेमी/प्रेमिका से उम्मीद करते हैं। आपकी किसी कोशिश को वो सराहना नही मिल पाती जिसकी वो हकदार थी। आपके हिस्से आती है बस एक मुस्कान जो शायद आपका दिल रखने के लिए होती है, सिर्फ आपका दिल रखने के लिए। क्योंकि जिसका दिल जीतने की आप कोशिश करते हैं उसका दिल कहीं और होता है।

आपकी हर कोशिश की तुलना की जाती है उस व्यक्ति से जिसको शायद आप जानते भी नही हैं। अगर आप की कोशिश बेहतर हुई तो मुस्कान के साथ आपको उम्मीद दी जाती है की आपको दोबारा कोशिश करने का मौका दिया जाएगा। पर अगर आपकी कोशिश में कमी रह गयी तो एक उलाहना मिलती है कि आप उन जैसे नही हैं और हो भी नही सकते इसलिए कोशिश भी मत कीजिए।

आपको एक टूटा हुआ दिल मिलता है और आपको हमेशा उस टूटे दिल की मरम्मत करनी पड़ती है जिसको जोड़ते जोड़ते एक दिन आप भी टूट जाते हैं।

पर क्योंकि आप उनसे प्यार करते हैं तो आप ये सब जानते हुए भी उनके ज़ख्मों को भरने की कोशिश करते करते ख़ुद के लिए एक घाव तैयार करते रहते हैं।

अब ये आपके ऊपर निर्भर करता है कि उस घाव का दर्द आप कितना सह सकते हैं।

अमित 'मौन'

6 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (20-09-2019) को    "हिन्दी को बिसराया है"   (चर्चा अंक- 3464)  (चर्चा अंक- 3457)    पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।  --हार्दिक शुभकामनाओं के साथ 
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. वाह बेहतरीन रचनाओं का संगम।एक से बढ़कर एक प्रस्तुति।
    Bhojpuri Song Download

    ReplyDelete
  3. इस विषय पर शायद ही कभी लिखा गया है. आपने बखूबी हु-ब-हु दुसरे प्रेमी के विचार होते हैं को उकेर दिया है.
    अनछुए विषय पर पढने क कभी कभी मिलाता है. आपका लेखन बहुत गजब का लगा.

    पधारें- अंदाजे-बयाँ कोई और

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत धन्यवाद आपका

    ReplyDelete

प्रियतम

इतनी उत्तेजित होती हो सहसा ही सुन के नाम मेरा यानी कि विह्वल तुम भी हो छीना है जो आराम मेरा जब साँझ ढले जब चाँद चले उस पल में प्रियतम आ ज...