Monday, 7 December 2020

फॉर्मूला

सड़कें हमें कहीं नही पहुँचाती
हम सड़क पर चलते हैं और गलत जगह पहुँच जाते हैं।

दुःख भी हम तक चल कर नही आते
कुछ अलग होता है और हम दुःखी हो जाते हैं।

हम किसी को याद नही करते
पर कुछ लोग याद आ जाते हैं।

भूलने का कोई फॉर्मूला नही होता
जिसे हम सोचते नही उसे हम भूल जाते हैं।

अमित 'मौन'


P.C.: GOOGLE


10 comments:

  1. सादर नमस्कार ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (8-12-20) को "संयुक्त परिवार" (चर्चा अंक- 3909) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    कामिनी सिन्हा

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. भूलने का कोई फॉर्मूला नही होता
    जिसे हम सोचते नही उसे हम भूल जाते हैं।

    बहुत गहरी बात।
    बेहतरीन रचना...
    ⭐🚩⭐

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपका

      Delete
  4. गहन चिंतन सराहनीय रचना।
    सादर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत धन्यवाद आपका

      Delete

स्थिरता

कितनी ही दीवारें हैं जिन्हें घर होने का इंतज़ार है और मुसाफ़िर हैं कि बस भटकते हुए दम तोड़ रहे हैं जाने कितना ही वक़्...