Monday, 9 September 2019

क्यों जीवन व्यर्थ गंवाता है

निश्छल और निष्पाप रूप में
जीव  धरा  पर  आता है
आसक्ति और मोह के वश में
जीवन  व्यर्थ  गंवाता  है

ज्ञानी रावण भी क्रोधित हो
पर  स्त्री  हर  लाता  है
तीनों लोक विजय पाकर भी
रण में  मृत हो जाता है
 
नश्वर  है  ये देह  हमारी
कंस  जान  ना  पाता है
युक्ति सारी अपना कर भी
मृत्यु  अंत  में  पाता  है
 
चक्र बदलने को जीवन का
क्या  क्या  तू  अपनाता  है
खेल  ही  सारा  प्रभू  रचे है
प्राणी  जान  ना  पाता  है

काम, क्रोध और लोभी मन
ये  पाप  सभी  करवाता  है
धन, दौलत हो महल अटारी
धरा  यहीं  रह  जाता  है

प्रत्युत्तर में फल कर्मों का
इसी  धरा  पर  पाता  है
जन्म सफल करने का अवसर
यूँ  ही  व्यर्थ  गंवाता  है

मानव जीवन ही पूँजी है
क्यों बुरे कर्म अपनाता है
सत्कर्मों से सुन हे मानव
नाम  अमर  हो  जाता है

अमित 'मौन'

No comments:

Post a Comment

आत्ममंथन

किसी इंसान की ज़िंदगी का वह दौर सबसे भयावह होता है जहाँ पूरी दुनिया की भीड़ मिलकर भी उसकी तन्हाई दूर नही कर पाती। उसके चारों ओर हँसते हुए चेहर...